Thursday, August 22, 2013

कब मनायेंगे हम वोट का भी त्यौहार?

वोट माडी !


कल बंगलौर रूरल संसदीय क्षेत्र का उपचुनाव था ।मेरा आवास इसी क्षेत्र के अंतर्गत है, और भाग्यवश मेरा वोटर लिस्ट में नाम दर्ज है,अतः इसबार मैंने भी मतदान किया ।ईमानदारी की बात तो यह कि मैंने अपने जीवन में यह पहली बार मतदान किया , अन्यथा इसके पूर्व या तो कभी वोटर लिस्ट में नाम ही नहीं सम्मिलित था,यदि नाम था तो वोट देने गये तो पता चला कि मेरा वोट तो पहले ही डाला जा चुका है, या मतदान के दिन कोई आकस्मिक कार्य आ गया, या किसी उच्च विभागीय अधिकारी द्वारा निर्धारित निरीक्षण अथवा मीटिंग में फँस गये, और वोट देने नहीं जा सके, इस प्रकार कोई न कोई छोटा या बड़ा कारण वोट डालने में रोड़ा बन ही जाता है और मैं अपना वोट देने से चूक जाता रहा हूँ ।

हालांकि आमलोगों में सामान्य तौर पर यह एक बहस का मुद्दा रहता है कि आखिर वोट देने का फायदा ही क्या जब प्रायः राजनेता व राजनैतिक पार्टियाँ भ्रष्ट, धर्म, जाति और समुदाय के नाम पर समाज को बाँटने और विवाद पैदा करने वाली, काम कम भाषणबाजी ज्यादा करने वाली, स्वार्थी, सत्ता लोभी इत्यादि इत्यादि हैं, हमारे राजनैतिक नेता देशहित में कम अपितु निजी सुविधा, व धनसम्पत्ति अर्जन व इसके तिकड़म में ज्यादा व्यस्त रहते हैं , और यदाकदा एकाध योग्य प्रत्याशी
होते भी हैं ,जिनसे जनता कुछ अच्छे कार्य व उन्नति की कुछ उम्मीद कर सकती है, तो ऐसे एकाकी लोगों का कोई राजनैतिक आधार ही नहीं है और जब वे चुनाव जीत ही नहीं सकते, और यदि जीत भी गये तो सत्ता में आने से रहे, तो ऐसे प्रभावहीन प्रत्याशी पर अपना वोट जाया करने का फायदा ही क्या?

इस प्रकार एक मतदाता के मन में इस चुनावी प्रक्रिया के प्रति इतनी नकारात्मक व कुंठादायी तस्वीर बन जाती है कि मतदान करने हेतु उसके हृदय में किसी भी प्रकार का उत्साह बचता ही नहीं, और नतीजतन स्वतंत्र सोच के अधिकांश मतदाता चुनाव को मात्र बकवास और ढोंग समझते इससे उदासीन होकर मतदान करते ही नहीं,और जो लोग मतदान में हिस्सा लेते भी हैं वे प्रायः किसी न किसी जाति, धर्म, समुदाय, गुट में आस्था रखने व उससे संबंधित पार्टी के प्रत्याशी को ही वोट देने में विश्वास रखते हैं, न कि निजी विवेक व अपनी स्वतंत्र सोच पर।यहीं कारण है कि संसदीय व एसेंबली जैसे महत्वपूर्ण चुनाव, जिनसे हमारे देश व राज्य की , और सच पूछें तो अपरोक्ष रूप से हमारी,आम जनता की, स्वयं की अगले पाँच वर्ष की किस्मत निर्धारित होती है, हमारा और हमारे बच्चों का भविष्य, रोजी रोजगार के अवसर इन पर निर्भर करता है, को भी आधी से ज्यादा जनता इसे गौड़ व फालतू समझते मतदान में भाग ही नहीं लेते ,और इस प्रकार देश में कुल औसत मतदान बामुश्किल पचास प्रतिशत रहता है ।

अब प्रश्न यह उठता है कि लोकतंत्रीय प्रणाली में जहाँ सरकार और सत्ता केवल और केवल चुनाव के रास्ते व इस प्रक्रिया से ही निकलती है, वहाँ यदि हम वाकई में अच्छी व कार्यकुशल सरकार व प्रशासन की आकांक्षा रखते हैं ,और अपने देश व समाज की उन्नति हेतु संजीदा हैं,वर्तमान में किसी प्रकार का बदलाव व सुधार करना चाहते हैं, तो चुनाव प्रक्रिया को स्वीकार करने व इसमें भागीदारी करने के अतिरिक्त नागरिकों के पास विकल्प ही क्या है । ऐसे में हमारा ,आम जनता का, चुनाव प्रकृया की नकारात्मक स्थिति व वातावरण के कारण, इसके प्रति उदासीनता व इससे हमारे पलायन द्वारा भला कौन सा समाधान निकलने वाला है, बल्कि सच कहें तो हमारा यह पलायनवादी व्यवहार वैसा ही है जैसे बिल्ली को अपनी ओर आक्रमण करते देख कबूतर अपनी आँख मूंद और सिर नीचे गाड़ निष्क्रिय बैठ जाता है, और नतीजतन बिल्ली बड़ी सहजता से उसे अपना शिकार बना लेती है । क्या हम भारतीय भी मतदान से पलायन करके इसी अबोध कबूतर की भाँति इन धूर्त व कुटिल राजनैतिक व धार्मिक नेताओं के शिकार नहीं बन रहे हैं?
 
विषय से भटकने हेतु पाठकगण मुझे क्षमा करेंगे किंतु यहाँ मैं अपने भारतीय जनमानस का विभिन्न तीज त्यौहारों के प्रति तीव्र , सच कहें तो जुनून के स्तर तक, आकर्षण की चर्चा करना चाहूंगा ।अभी हाल ही में मैं अवकाश पर उत्तर प्रदेश अपने पैतृक स्थान गया, जहाँ कार्य वश विभिन्न स्थानों मीरजापुर, वाराणसी, इलाहाबाद, लखनऊ इत्यादि जाना हुआ, यह देखकर मेरे आश्चर्य का ठिकाना न रहा कि वहाँ सभी मुख्य सड़क
ें,राजमार्ग, रास्ते, गली, कूचे गेरुआ वस्त्र धारी जनशैलाब से अटे पड़े हैं, बताया गया कि यह सब काँवरिया हैं जो श्रावण माह में काँवर में गंगा जल लेकर प्रमुख शिवमंदिरों की पैदल यात्रा करते हैं, कहीं कहीं तो ये पचास किलोमीटर से लेकर दो सौ किलोमीटर तक की पैदल यात्रा करते हैं,सड़कों,राष्ट्रीय राजमार्गों, राजपथों, शहर के अंदर आवागमन की मुख्य सड़कों पर इनके उमड़ते शैलाब से सभी तरह का यातायात अवरुद्ध हो जाता है, इस धार्मिक जनशैलाब के अनियंत्रित व अराजक , व कभी कभी तो अप्रत्याशित रूप से हिंसक, व्यवहार से पुलिस और प्रशासन के सामने कानून व्यवस्था की भारी समस्या उत्पन्न हो जाती है, यहाँ तक कि मुख्य राष्ट्रीय राजमार्गों का एक साइड वाहनों के यातायात को अस्थाई रूप से रोककर इन काँवरियों के स्वच्छंद उपयोग हेतु छोड़ दिया गया है, इस प्रकार लगभग पूरे प्रदेश में इन काँवरियों के कारण सारा यातायात व कार्य रोजगार विगत एक माह से ठप सा हो गया है । इसी प्रकार बंगलौर में देखता हूँ कि विगत दो दिन रक्षा बंधन के त्यौहार के सिलसिले में बाजार और सड़कें खरीदारी करने वालों की भारी तादाद व उनकी गाड़ियों से अटे पड़े थे ।मिठाई की दुकान पर तो रेलवे के टिकट रिजर्वेशन सेंटर से भी ज्यादा भीड़ दिख रही थी ।

यह तो मात्र कुछ उदाहरण हैं, हमारे देश में कोई भी त्यौहार ले लें, क्या दशहरा क्या ईद, क्या दीवाली क्या बकरीद,क्या पोंगल क्या गणपति पूजा, क्या नमाज क्या मंदिर पूजा,क्या उत्तर क्या दक्षिण , हमारे शहरों के सभी प्रमुख मार्ग व रास्ते जन शैलाब से अटे रहते हैं, क्या बच्चे क्या बूढ़े ,क्या महिला क्या पुरुष सबमें इन अवसरों, त्यौहारों पर जबर्दस्त उत्साह और सबकी अनिवार्य भागीदारी देखने को मिलती है, प्रायः तो इन अवसरों, त्यौहारों पर कार्य और स्कूल में छुट्टी भी रहती है और इस प्रकार बिना किसी अवरोध के सभी इन्हें उल्लास से मनाते हैं, यदि किसी त्यौहार पर छुट्टी नहीं भी है, तो भी लोग काम पर न जाने बल्कि अपना त्यौहार उत्सव मनाने हेतु स्वतंत्र होते हैं ।

प्रश्न यह उठता है कि जिस देश के नागरिक अपने धार्मिक व सामाजिक तीज-त्यौहार के प्रति इतने जागरूक, इतने उत्साही हैं, भला वही नागरिक मतदान जैसे अपने मौलिक दायित्व, वह मतदान जिसके परिणाम पर देश का साथ ही साथ उनका निजी व परिवार का भी भविष्य निर्भर करता है, के प्रति इतने उदासीन क्यों रहते है?


लोकतंत्र की अच्छाइयों, बुराइयों, भारत के संदर्भ में लोकतंत्र की सार्थकता व इसके हानिलाभ पर बहस और विवाद चर्चा का एक पक्ष हो सकता है, किंतु इस स्थापित सत्य से किसी की भी असहमति नहीं हो सकती कि अंततः लोकतंत्र
ीय प्रणाली ही आम नागरिक की व्यक्तिगत आजादी व उसके मौलिक अधिकारों की सुरक्षा की गारंटी दे सकती है, अन्यथा तो भूत से लेकर वर्तमान तक पूरे विश्व में कितने ही प्रमाण हैं कि लोकतंत्र के इतर कोई भी अन्य प्रणाली की परिणति अंततः नागरिकों की आजादी पर कुठाराघात और उनके मौलिक अधिकारों के हनन में ही होती है।

इस प्रकार लोक तंत्र की अपरिहार्यता को ध्यान में रखते इसकी रक्षा व इसको जनहित में प्रभावी बनाने हेतु जनजन की मतदान में भागीदारी भी अपरिहार्य है ।लोकतंत्र की रक्षा व इसके प्रभावी बनने हेतु प्रत्येक नागरिक द्वारा मतदान उसके किसी धार्मिक पर्व व त्यौहार से किसी भी रूप में कम नहीं होना चाहिए ।हमारा भारतीय जनमानस अपने धार्मिक तीज त्यौहारों के प्रति जिस प्रकार जागरूक, सक्रिय व उत्साहित रहता है व इन्हें बड़े जोशखरोश के साथ मनाता है, वहीं जोश और खरोश उन्हें मतदान के अवसर पर भी दिखाना होगा, तभी सार्थक बदलाव संभव, तभी राजनैतिक व धार्मिक ठेकेदारों से हमारी आजादी भी संभव है । 


अब बस यही इंतजार व कामना है कि कब मनायेंगे हम वोट का भी त्यौहार?

4 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. सब वोट दें, सोच समझ कर वोट दें और लोकतन्त्र की बागडोर अपने हाथ में लेकर उत्सव मनायें।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट को हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में शामिल किया गया है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा {रविवार} (25-08-2013) को हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | सादर .... Lalit Chahar

    ReplyDelete