Saturday, August 27, 2016

जीवन पथ पर चलते चलते....

जीवन पथ पर चलते चलते....

(Translated from the English Poem - As I Walk Through Life by great English Poetess Emily Adams)

जीवन पथ पर चलते चलते
मैंने यह सीखा और जाना,
कि वर्तमान पल को जी लेते,
जो आवश्यक और उचित वही करते
बच जाते भावी दुखसंतापों से।१।
I've learned-
that you can do something in an instant
that will give you heartache for life.

मैंने सीखा यह और जाना
कि अपनों से जब भी विदा लिए
कर लेते साझा दो प्रेम बोल
है कौन जानता पल कल को
फिर मिलें कभी या नहीं मिलें
हो मिलना यह अंतिम पता नहीं।२।
I've learned-
that you should always leave
loved ones with loving words.
It may be the last time you see them.

मैंने सीखा यह और जाना
कि चलते रहना ही जीवन है
हों पांव थके, दम उठ आए
हिम्मत भी साथ विदा लेती,
फिर भी संकल्प लिए मन में
चलते रहना, बढ़ते रहना है।३।
I've learned-
that you can keep going long after you can't.

मैंने सीखा यह और जाना
कि जीवन में जो भी कर्म किया
उनकी जिम्मेदारी निज की है,
चाहे हों कितनी असफलताएं
चाहे कितने अवसाद मिले
पर दोष और को क्यों दूं मैं? ४।
I've learned-
that we are responsible for what we do,
no matter how we feel.

मैंने सीखा यह और जाना
कि निज मनोवृत्ति और आदत पर
अनुशासन और नियंत्रण आवश्यक है
काबू में रखना  उनकी लगाम
वरना स्वच्छंद हुए यदि वे
तो हो जायेंगे खुद उनके काबू में।५।
I've learned-
that either you control your
attitude or it controls you.

मैंने सीखा यह और जाना
कि जीवन की उपलब्धि का मापदंड
धनअर्जन मात्र नहीं होता
आवश्यकता भर तो यह आवश्यक होता
पर जीवन के मूल्यों और रिश्तों का
केवल धन स्थान न ले सकता।६।
I've learned-
that money is a lousy way of keeping score.

मैंने सीखा यह और जाना
कि  जीवन के निधि अनमोल मित्र
हों मसले कोई गंभीर, कठिन या फिर
बातें बस हों हंसी ठिठोली की
जो मित्र साथ में अपने हों तो
पल कैसे बीते न यह पता चले।७।
I've learned-
that my best friend and I can do anything
or nothing and have the best time.

मैंने सीखा यह और जाना
कि चाहे जो भी हालात बने
भली बुरी बातों के पल में
खुशी और नाराजगी लाजिमी है
पर कितने भी क्रोधित आवेशित हों
मन में मानवता, सहिष्णुता रहे कायम।८।
I've learned-
that sometimes when I'm angry
I have the right to be
angry, but that doesn't give me
the right to be cruel.

मैंने सीखा यह और जाना
कि विश्वास प्रेम की थाती है
हो सकता न अपेक्षित प्रेम मिले
आवश्यक न सब मनमाफिक हों
फिर भी आश्वस्त रहें मन कि
अंतर्मन में सबके है प्रेमभाव ।९।
I've learned-
that just because someone doesn't love you the
way you want them to doesn't mean they
don't love you with all they have.

मैंने सीखा यह और जाना
कि अपनों से ही गहरी चोट मिले
जीवन में यदि रिश्ते हैं,अपने हैं
तो उनका टकराना स्वाभाविक है
पर सबको सहेज, अपनाना है
धीरज रखते और क्षमा किये।१०।
I've learned-
that no matter how good a friend is,
they're going to hurt you every once
in a while and you must forgive them for that.

मैंने सीखा यह और जाना
कि औरों से क्षमा आवश्यक है
पर यह ही केवल पर्याप्त नहीं
इससे भी महत्वपूर्ण और आवश्यक
है यह कि औरों को हम भी
कर सकें क्षमा सहृदयता से।११।
I've learned-
that it isn't always enough to
be forgiven by others,
Sometimes you have to learn
to forgive yourself.

मैंने सीखा यह और जाना
कि रिश्ते कमजोर न बातों से
दो जन हैं तो बातें होंगी ही, और
स्वाभाविक खटपट और नोकझोंक
बातों में चाहे कितना मतभेद रहे
पर दिल का संगम बना रहे।१२।
I've learned-
that just because two people argue, it doesn't
mean they don't love each other.

जीवन के पथ पर चलते चलते
मैंने सीखा यह और जाना
कि दृश्य एक पर दो जन में
अंतर दृष्टिकोण का रहता है
इस दृष्टिकोण के अंतर से भी
आपसी सामंजस्य बनाये रहना है।१३।
I've learned-
that two people can look at
the exact same thing
and see something totally different.

जीवन के पथ पर चलते चलते
मैंने यह सीखा है और जाना है।१४।

-देवेंद्र

Tuesday, August 16, 2016

Why India fails miserably to win any medals in Olympic?

In our childhood, we used to read a story-There was a king, who wanted to collect a large chunk of milk, to perform a big yagya ceremony. He ordered all his subjects to contribute their part of milk in a large and deep cemented well, and with due respect to and trust for his subjects, didn't appoint any authority to check or verify the contribution made from the individual citizens . The every individual thought to play them smart, to contribute only a mug of water, in place of milk, when there is nobody to crosscheck it. Thus eventually the well was full of only water, in place of any milk.

Same is the fate of our nation too in most of its the public aspects,whether it's the general cleanliness of the public places, the general traffic order on the roads, or the performance of our nation in any important international sport's event, like Olympic or World Championship, our fate is decided and sealed from the day one, that we are going to prove just a naught in general.

Although I know many of my friends may disagree with me to blame the public in general itself as a cause for our nation's poor performance in the sports event, as the soul blame goes to the government, and it poorly state of affairs . But it's not a question of blaming someone particular for all such failures and the bad state of the things , but it's just a general and bare reality check only. We have to understand that things, either good or bad, either success or a failure, don't happen just by a chance, but by the due plan and design only. Unfortunately any public cause, either it's concerned the management of the general cleanliness of our public places, and upkeeping and protection of our public and the natural assets or  the management of sports, the grooming, training and upbringing of talents in sports to the international level , as a glory and pride for the nation, is concerned, is always fated for a chaos and mismanagement, as they lack the appropriate planning and the design for their management, they are just left hapless to survive by chance and random only, and very often even inflicted upon of some bad and mischievous politics and misuse even .

I was watching a small video clip forwarded on WhatsApp by my a college friend, who lives in UK. It's about the turn around story of the sports in UK 🇬🇧for last two decades. UK, which used to be a sports giant till sixties , gradually declined and became almost a spent force in Sports a two decades back . In 1996 Atlanta Olympic, UK could hardly win 15 medals, including just a single Gold medal. It was a wakeup call for the UK government and the sports administrators, as well as the sports loving public of UK. Then was started a sincere effort, on each and every stakeholder, including the sports loving British people, to put the things in place and order there.

They did a critical SWOT analysis, understood their area of their strength, potential and the talent pool available in the respective fields, and made their the best endeavour to harness it positively and ascertain their success in international arena, as they had been dominating in the past. The UK government and the sports authorities invested significantly in coming years in upgrading and modernizing the sports infrastructure and facilities . Many innovative methods of fund raising were adopted, in which the corporate houses, as well as the public in general contributed encouragely. And the good results of these positive investments started to be noticed in coming few years, in coming Olympic games, the medal tally of UK improved significantly, by 2008 the Beijing Olympic, they it touched the figure of 47 with more than 20 Gold medals, and finally in 2012 the London Olympic, UK as a host nation, could very visibly be seen as a cognitive sports force, with its medal of 67, including more than 30 gold medals. In the ongoing Rio Olympic too, Britain is performing an excellent, it's medal tally already more than 40, with 16 gold medals placed well decent at number two, just next to USA, the topper in the Medal tally.

India needs to adopt only such a very pragmatic and prudent approach if it's really wants any good and positive outcome and success in important international sports events. It requires a thorough SWOT analysis, and the systematic longterm investment all along in its sports area. We have to realize and understand that the success in modern sports is not just an emotional affair, blended with love and pride for your nation only and just a wishful thinking only . The present international level of the sports is highly advanced and competitive,involves more a high tech and advanced skill, stamina and preparation, apart from the natural talent and passion to win for one's national pride. The case example is Hockey, our the national sports, in which the four five decades back India used to be a highly reckoned force. Whereas at present even in this game too, India looks now just a spent and depleted only . Although, and certainly there is no lack of any passion in the players, as well as no dearth of the talents in our nation , but unfortunately this only, the emotional quotient is not well enough and suffices to win in the international sports event like Olympic. It's more the concern of the availability of the world class sports infrastructure, the selection process and the long term and the sustaining world class training to groom the raw talent into the international class talent, not just one of the best, but the best in the game.

Similar to Hockey, India needs to work upon its other traditional sports talent and strength, to name a few - wrestling,weight lifting, archery, shooting etc . In certain other sports as well like Badminton, Lawn Tennis, the boxing also Indian players have performed well occasionally and have shown a great potential, hence it requires to work upon its such strength areas.

Somehow the Athletics has been not pretty strength area of India, specially when it matters for the international level , but no doubt in the past the women athletes have shown the tremendous potential, since the era and ages of PT Usha,  the last three decades back . Unfortunately we could never keep the momentum for the same,and our women athletes too were lost somewhere in the way.By planning , organizing , investing and managing rightly and appropriately, with due strategy, goal and mission, certainly the best outcomes can be achieved in the future ahead.

As we talked earlier, the success is always by the plan and design, not just by a chance. So applies for India and the Indian sports too. India, it's all the stake holders in sports, and nonetheless the Indian people, need to be awakened, and need to work hard and to the smartest most, on our strength to upcome to not just the world standard, but the best in world, only then we can ensure the success and medals in any Olympic. There is no place for just a wishful thinking only.

Monday, May 9, 2016

जिंदगी... अपनी सी है या बेगानी ?

हमसाया बनती तुम
मेरे पीछे पीछे चलती रहती हो
बिना कहे कुछ ,रोक टोक बिन
मेरे हर पग से तुम कदम मिलाती
मेरे हर निशान पर अपनी मुहर लगाती
खुशियों में जो मैं चहका तो
बड़ी तरेरे आँख दिखाती
दुश्वारी में जो मुँह बल गिरता
ताली दे तुम खिलती हँसती
साया हो या दुश्मन हो तुम
तुझे खुशी जब मैं कितना गम
मुझे पता तुम बड़ी चतुर हो
ज्ञानी बहुत मगर निष्ठुर हो
भूत जानती हो तुम मेरा
और जानती कल भी मेरा
रखती खबर तुम वर्तमान की
फिर भी नहीं इसारे करती
कि क्या था उचित और अनुचित क्या
मूढ.मति मैं गिरता खाईं, फिर भी
नहीं  कभी तुम बनी सहारा
निर्लिप्त भाव से खड़ी किनारे
रही देखती मेरी लाचारी
कुछ तो रहम और मदद दिखाती
पर है मालूम मुझे तुम निस्पृह
दुख से मेरे सुख से मेरे
क्या मैं उचित हूँ अनुचित करता
कब क्या मोड़ कहाँ मिल जाता
क्याँ हूँ तब मैं रस्ता  चुनता
तुम ना कुछ लेती ना कुछ देती
मैं वहीं काटता जो मैं बोता।
क्योंकि ,
निस्पृह सी, निष्ठुर सी
परंतु सत्य न्याय की प्रतिमूर्ति, आराध्या सी,
तुम मेरी हमसाया सी मेरी 'जिंदगी ' हो ।  
©देवेंद्र

Sunday, November 1, 2015

जनाब मुनव्वर राणा साहब! अफसोस आप भी बेगाने, दोहरे मापदंडों वाले ही निकले....

कल शाम एबीपी न्यूज चैनल पर जनाब मुनव्वर राणा जी की उनके द्वारा साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाये जाने के बाबत प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित थी जिसकी एंकरिंग देवांग कर रहे थे।

आजकल चूंकि अधिकांश टीवी चैनल खुले तौर पर मोदी सरकार के विरुद्ध अभियान चलाये हुए हैं इसलिए यह कहना कठिन है कि टीवी चैनल की यह प्रेस कॉन्फ्रेंस पुरस्कार लौटाने के बाद मुनव्वर राणा की बिगड़ती छवि को वापस सुधारने, उनको हीरो शायर के रूप में वापस स्थापित करने हेतु प्रायोजित थी अथवा यह एक सामान्य समीक्षा हेतु मात्र प्रेस कॉन्फ्रेंस ही थी, क्योंकि मुनव्वर राणा जी ने अपने पुरस्कार लौटाने की घोषणा भी बड़े प्रायोजित तरीके से ही कुछ दिन पहले इसी चैनल पर ही की थी।

पिछले हफ्ते भी इसी चैनल पर लेखक साहित्यकारों की एक प्रेस कांफ्रेंस आयोजित हुई थी जिसमें आर यस यस चिंतक राकेश सिन्हा जी सरकार और आर यस यस की ओर से पक्ष रख रहे थे जहां बामपंथी विचारधारा के साहित्यकारों का समूह उनको और सरकार /आर यस यस को घेरने और पिनडाउन करने की बराबर कोशिश कर रहा था।

कई बार ऐसा अनुभव होता है कि हमारे देश में बुद्धिजीवी वर्ग, विशेषकर बामपंथी विचारधारा के चिंतक, साहित्यकार, राजनेता इतना बौद्धिक अहंकार में रहते हैं कि उन्हें बाकी सभी अन्य विचारधाराएं नीच, गौड़ और अछूत लगती हैं, अपने अलावा उन्हें बाकी अन्य सभी विचारधारायें, विशेषकर राष्ट्रीयता और हिन्दुत्व की बात करने वाले अन्य बुद्धिजीवी और साहित्यकार या आरएसएस से सहमत लोग, बौद्धिक रूप से दरिद्र,अयोग्य, तर्कहीन और तुच्छ लगते हैं और अपने इस बौद्धिक अहंकार में उन्हें राष्ट्रहित की जुड़ी बातें भी कूड़ेदान में फेंकने में कोई गुरेज नहीं रहता।

कह सकते हैं कि देश की आजादी के बाद बामपंथी विचारधारा के बुद्धिजीवी, साहित्यकार व राजनेता इस देश के नये ब्राह्मण बन गये जिनकी हर सोच हर विचारधारा उन्हें सर्वोपरि, यहां तक कि राष्ट्र हित से भी ऊपर लगती है । तभी तो कम्युनिस्ट पार्टी के अहंकारी नेताओं ने आजादी से पूर्व में ही कांग्रेस पार्टी से अपने मतभेद और असहमति के कारण भारत के बंटवारे और मुस्लिमवर्ग के लिए अलग देश पाकिस्तान बनाने के लीगी प्रस्ताव को अपना पूरा, नैतिक और सक्रिय, समर्थन दिया। और आजादी के बाद भी सन् 1962 में जब चीन भारत का मानमर्दन कर रहा था, उस समय कम्युनिस्ट पार्टी के राजनीतिक चिंतक ' दिल्ली दूर, पेकिंग नजदीक ' का जुमला उछाल रहे थे। इस प्रकार कम्युनिस्ट विचारधारा के लिए देश हित सदा गौण रहा है, उन्हें तो मात्र देश की आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक विचारधारा पर वर्चस्व और नियंत्रण से ताल्लुक रहा है, भले ही उसके लिए देश में उन्हें कितनी अशांति पैदा करनी पड़े, मारकाट मचानी पड़े, देश अस्थिर हो, विखंडित हो। चूँकि कांग्रेस पार्टी जो सदैव सत्ता और इसकी दलाली के कार्य में ही लिप्त रही, उनका अपना कोई बौद्धिक चिंतन था ही नहीं और न ही कभी यह उनके प्राथमिकता में ही रहा, और आर यस यस से दूरी बनाकर रखना अपना राजनीतिक अस्तित्व बनाए रखने की राजनीतिक विवशता और मजबूरी रही, अतः अपने राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक विचारधारा और चिंतन हेतु वे पूर्णरूपेण बामपंथियों की भिक्षा और बैसाखी पर निर्भर रहे।

जब हम इलाहाबाद युनिवर्सिटी में पढ़ने आये तो हमारे कुछ नजदीकी सीनियर जो वामपंथी विचार धारा की छात्रयूनियन से जुड़े थे, उनसे प्रेरित होकर उनकी गतिविधियों में घूमते, पोस्टर चिपकाते, सेमिनार भाषणों में भाग लेते,वहां आजाद, बिस्मिल, भगत सिंह की जोश भरी बातें कोट की जाती थीं, मजदूरों, गरीबों, कमजोर लोगों की तकलीफ की बात की जाती, सिस्टम बदलने की बात की जाती, दुष्यंत कुमार, मुनव्वर राणा और तमाम अक्लियत की बात करने वाले शायरों लेखकों के जोश दिलाने वाले कथन, शेर, नज्म दोहराये जाते, सब कुछ बड़ा जज्बा बडा़ जोश देता, उस समय हमें यही लगता कि हमारे ताकतवर भारत, हमारे खुशहाल भारत की यही सोच होनी चाहिए, इसके लिए सड़े हुए और भ्रष्ट वर्तमान सिस्टम को पहले बदलना होगा जिसमें कोई मजहब नहीं, कोई जाति नहीं, केवल भारतीय होंगे, कोई गरीब नहीं होगा, कोई भूखा नहीं सोयेगा , सबके पास रोजगार होगा, काम होगा,उन्नत और गौरव मयी भारत, स्वाभिमान युक्त हमारी अपनी सोच वाला भारत होगा!

इन्हीं युवा सपनों को लेकर आगे इंजिनियरिंग कालेज गये, फिर सरकारी नौकरी में आये परंतु युनिवर्सिटी के शुरुआती दिनों में मन में पड़े भारतीयता के बीज सदा पोषित और समृद्ध होते रहे, हालांकि 1990 के मंडल आंदोलन, बनारस के सांप्रदायिक दंगों में कुछ अभिन्न मित्रों के वास्तविक सोच और स्वरूप को देखकर अपने जाति और धर्म से परे भारतीयता की व्यापक सोच और दृष्टिकोण रखने वाले मन को ठेस भी पहुंची, मन को नये सत्य, नयी वास्तविकताओं, नये आयामों से साक्षात्कार और परिचय हुआ परंतु व्यापक भारतीयता की यह सोच मन में कमोबेश स्थायित्व के साथ सदैव बनी रही, और आज भी उसी तरह कायम है ।

मन के इसी व्यापक भारतीयता के स्थायित्व के हिस्से मुनव्वर राणा साहब भी बने रहे। इसीलिए इलाहाबाद में मेरी पोस्टिंग के दौरान राजभाषा दिवस पर आयोजित कवि-सम्मेलन में जब मुनव्वर राणा साहब का व्यक्तिगत रूप से दर्शन का सौभाग्य मिला, उनको अपने सामने खुद उनके द्वारा ही वह शेर , जिन्हें कालेज में हम दुहराया करते थे, पढ़ते पाया, उन्हें सम्मान प्राप्त करते देखा तो खुशी का ठिकाना नहीं था। जिसे आप मन से सम्मान देते हों उसे सामने सम्मानित होते देखकर मन में वैसी ही अंतरंग खुशी अनुभव होती है जैसे स्वयं को ही पुरस्कार मिला हो! मुनव्वर राणा मन में उस शायर की छवि लेकर सदैव बने रहे जो मजहब से ऊपर उठकर एक मुसल्लम भारतीय है!

हमारे कई यार दोस्त जो आज देश विदेश में रहते हैं वे भी मेरी तरह मुनव्वर राणा जी के जबर्दस्त चाहने वाले रहे हैं, हम सब मुनव्वर राणा जी की तमाम नज्में, शेर अक्सर एक दूसरे से अपने व्हाट्सअप ग्रुप में साझा करते रहे हैं। शायद मुनव्वर राणा साहब को अहसास भी होगा कि नहीं कि उनके चाहने वालों की अधिकांश जमात उनके अपने मजहब से बाहर के, हम जैसे लोगों की ही होगी न कि सिर्फ उनके अपने मजहब से ताल्लुक रखने वाले लोगों की!
एक राजनीतिक सोचे समझे एजेंडा के तहत कुछ साहित्यकारों, लेखकों, जिनकी आस्था और स्वामिभक्ति कुछ राजनीतिक दलों से जुड़ी हुई हैं, द्वारा शुरू किए गए मोदी और वर्तमान केंद्र सरकार के विरुद्ध दुष्प्रचार और शुरु हुये प्रोपोगंडा के अंतर्गत शुरू किए गए पुरस्कार लौटाने के तमाशे में जब मुनव्वर राणा साहब भी शामिल हो गए, वह भी एक टीवी चैनल के प्रायोजित प्रचार प्रसार के साथ तो अपने मन में उनके प्रति कायम आस्था को बड़ा झटका लगा, और मन में यही निराशा हुई कि अफसोस! यह जनाब भी औरों की ही तरह असल में दोहरे चेहरे, मापदंड और आवरण ओढ़े ही निकले, जिनकी शायरी में हमें सच्चाई, मुफलिसों की तकलीफ,जिसकी बातों और शायरी में अक्लियत की हलकानी शिद्दत से अनुभव होती थी, वह बस एक खाली डिब्बा मात्र निकला, जो उसे बजाने वाले उंगलियों के थाप के इशारे के मुताबिक बस बजता, आवाज करता है, उसकी निजी सोच, निजी अनुभूति कुछ भी नहीं है , वह तो बस औरों की ही तरह ही किसी मदारी के इशारे पर नाचने वाला मात्र जमूरा भर है! अभी तक जो व्यक्ति हमारे हृदय में दुष्यंत कुमार के साथ बैठा हुआ था, शिद्दत के सम्मान के सम्मान के साथ आसीन था, उसके वास्तविक चरित्र और रूप को आज अनुभव करके वह आज अपने हृदय और आस्था से कोसों दूर दिखता है, जिस व्यक्ति की आंखों में पंद्रह साल पहले सामने देखते भाईचारे, दोस्ताने और एक  निर्भीक शेर कहने वाले शायर और सच्चे भारतीय की चमक दिखी थी, कल टीवी चैनल पर उसके द्वारा बोलते हुए, लोगों के सवालों के जवाब  देते मीचमिचाती, लोगों की निगाहों से नजर चुराती, धूमिल, किसी एजेंडे, गुपचुप मकसद से भरी नजर आ रही थीं।

मुनव्वर राणा साहब! आपको शायद आभास भी नहीं होगा कि मेरे जैसे तमाम आपके चाहने वालों के विश्वास और उनकी आपके प्रति भारतीयता की आस्था को आपने किस तरह की चोट पहुंचाई है! आपके टीवी पर आयोजित बड़े प्रचार प्रसार के साथ साहित्य अकादमी पुरस्कार को लौटाने के किये गये तमाशे  का मकसद,एजेंडा क्या है,और यह किसके इशारे पर आपने किया है, यह आप स्वयं ही बेहतर जानते और समझते होंगे परंतु इतना अवश्य कहना चाहता हूं कि मैं भी इस देश का ही नागरिक हूँ, इसी देश में ही रहता हूँ, मुझे तो ऐसा कहीं कोई अप्रत्याशित वातावरण नजर नहीं आता कि जिससे देश का अमन चैन धार्मिक सद्भावना बिगड़ रहा हो, या इस तरह के किसी खराब माहौल बनाने में केंद्र सरकार और मोदी जी का कोई योगदान हो रहा है। मन में विचार तो आ रहा है कि आपको ध्यान दिलाऊं कि हाल में जो देश में एक दो दुर्भाग्यपूर्ण घटनायें हुई  है, जिनमें दादरी में अख्लाक की घटना सबसे संगीन और दुर्भाग्यपूर्ण है, उनके लिए स्थानीय प्रशासन और संबंधित राज्य सरकारें जिम्मेदार हैं, जिनसे आप खुद बहुत नजदीकी ताल्लुकात रखते हैं , उनसे गाहे बगाहे सम्मान पुरस्कार लेते रहते हैं,उनके हाथों सम्मानित होते रहते हैं, न कि इन घटनाओं हेतु जिम्मेदार केंद्र सरकार और मोदी जी हैं !

जनाब मुनव्वर राणा साहब! आपने अपनी शायरी में भारतीयता, धार्मिक सद्भावना की बात हमेशा की है और इसीलिए आप हमारे चहेते शायर रहे हैं, मगर दादरी के मसले पर आप जिस तरह अपना पुरस्कार लौटाकर टीवी पर प्रायोजित कार्यक्रमों में भावनात्मक प्रतिक्रिया भारत सरकार के विरुद्ध अभिव्यक्त कर रहे हैं, उसका एक अंश भी अगर आप 84 के सिख जिनोसाइड की जिम्मेदार कांग्रेस पार्टी और उसके मुखिया राजीव गांधी और उनके परिवार के खिलाफ व्यक्त किये होते, 93 के आतंकवादियों के मुंबई ब्लास्ट में मारे गए निर्दोष नागरिकों की हत्या के लिए जिम्मेदार विदेश में बैठे डॉन महोदय, जिनके मजहब, नाम और काम से आप सर्वथा सुपरिचित हैं, के खिलाफ कभी कहे होते , या कश्मीर के मूल निवासी कश्मीरी पंडित भाइयों की पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादियों द्वारा जघन्य हत्याओं के खिलाफ अभिव्यक्त किये होते , उनके बहू बेटियों के सरेआम अगवा और बलात्कार के खिलाफ अपनी जुबान खोलते, इसी तरह की पीड़ा और दुख जताते तो मैं निश्चय ही मान लेता कि आप एक सच्चे इंसान, सच्चे शायर जो तकलीफजदा इंसानों के दर्द को समझते हैं और वही अपनी शायरी में सच्चाई से, बिना लागलपेट के कहते हैं, मैं आपके इस दुख और अभिव्यक्ति के क्षणों में साथ खड़ा होता, आपके इस पुरस्कार लौटाने के कदम की खुली प्रशंसा करता, बंगलौर से लखनऊ आकर आपको सादर प्रणाम करता, वरना तो हुजूर आपकी सारी शायरी, उसका सारा बयान फक्त एक लफ्फाजी मात्र लगती है।

जनाब! मैं जानता हूँ कि आपसे कोई सत्य, कोई तथ्य कहना सर्वथा निरर्थक है क्योंकि जिसे सच्चाई और परिस्थिति की जानकारी नहीं हो उसको कुछ कहा बताया जा सकता है, परंतु जो एक महान शायर हो, जो हर पहलू को गहराई से, शिद्दत से समझता हो परंतु सब कुछ जानते हुए भी सच्चाई की अनदेखी कर रहा हो, जिसके मन में किसी राजनीतिक पार्टी और विचारधारा से असहमति मात्र होने के कारण अपने मन के अहंकारवश उनके प्रति व्यक्तिगत दुराव  हो , जिसकी अपने देश और समाज के प्रति भावना और जिम्मेदारी की प्राथमिकता के बनिस्बत उसकी व्यक्तिगत राजनीतिक और मजहबी पसंद नापसंद ज्यादा महत्व और मायने रखती हो, जो  किसी और के राजनीतिक स्वार्थ और एजेंडे पर काम कर रहा हो,इस्तेमाल किया जा रहा हो, उससे कुछ कहना सुनना निष्प्रयोजन ही है, सिर्फ बेमानी ही है ।

Saturday, September 12, 2015

मालती लता

(स्केच नंबर १०)

हे मालती लता!  
तुम सुंदर यौवना सदृश,
अपनी कटि को कुछ लचक दिये,
अल्हणपन यौवन को लिए हुए
तनी खड़ी हो थी , मतवाली बाला की जैसी!

तेरी सुंदरता के सम्मोहन से
जो समीप मैं तेरे आऊं, और नजदीक से तुझे निहारूं,
तो हूं पड़ता आश्चर्य बहुत मैं
कि कौन सा जादू तेरी सुंदरता में ऐसा
छिपा हुआ तुझे इतना बल देता
जो तुम खड़ी, तनी अल्हड़ युवती सी
जबकि तना तुम्हारा  कोमल, कितना कृषतन!
और डालियाँ तेरी कितनी लतर मुलायम!
और ऊँचाई उनकी है अति लघु,
ऊपर से तेरे मतवाले यौवन के खिलते
फूलों के अति भार से भी यह लदी हुई हैं!

तेरा अपने आप इसकदर तनकर खड़ा यूं रहना,
चमत्कार से यह क्या फिर कोई कम दिखता है?
दरअसल जिस लकड़ी या तार या पेड़ के तने के सहारे 
हे मालती लता!  तुम खड़ी हो दिखती,
उसको अपने प्रेमपाश में कुछ इस तरह स्वयं के कोमल तन से,
और लदकते अपने गुलाबी फूलों से आगोशित, इस कदर घेर लेती हो
कि तेरा संबल दूर से नहीं अलग कहीं नजर है आता,
दिखती हो सिर्फ तुम और तुम्हारा सौंदर्य, हे मालती लता !
और तेरा संबल तेरे सौंदर्य में ही आत्मसात, छिपा, खोया रहता है।

करता होगा कोई वृक्ष गुमान अपने मजबूत तने पर,
और अपनी नैसर्गिक मजबूती, खड़े होने की  ताकत देते अपने तने पर,
शायद करता भी हो उपहास तुम्हारा
कि तुम हो कितनी कमजोर, और तुम्हारे स्वयं खड़ा हो पाने की अक्षमता पर
मगर हे मालती लता! तुममें और एक मजबूत वृक्ष में कुदरती फर्क है !
और यही फर्क ही मालती लता तुम्हारा अद्भुत सौंदर्य है ।

लोग समझते होंगे, कहते होंगे कि तुम कितनी कमजोर और लुंजपुंज हो!
अपने -आप इंच दो इंच भी न ऊपर उठ सकती हो!
मगर सहारे को अपने तुम देकर पूरा मान स्नेह,
उसको अपने तन मन को अर्पित कर, आगोशित कर,
ऊपर चढ़ जाती हो, चढ़ती ही रहती हो, इठलाते तनते
मगर  तुम्हारा बलखाना, इठलाना यह
नहीं कोई है दर्प तुम्हारे मन के अंदर,
यह तो बस तेरी प्रेम भावना, है यह तो आभार प्रदर्शन
जो तुम अपने संबल को अपनी कृतज्ञता से
आजीवन, अपनी अंतिम सांसो पर चुकता करती हो |

-देवेंद्र

फोटोग्राफ - श्री दिनेश कुमार सिंह द्वारा

Friday, September 11, 2015

कच्चे अमरूद

(स्केच नंबर ९)

कच्चे ताजे अमरूद रहे हैं साथी अपने बचपन से,पसंद हम सबके,
चाहे घर के बागीचे में मां के रोपे हुए पेड़ की टहनी पर वे हों लदके,
या स्कूल के रास्ते में बुढ़िया दादी के घर के बागीचे में वे हों लटके,
या स्कूल के प्रांगण में अपने रेसस के टाइम कच्चे अमरूदों को पेड़ों से हम तोड़ा करते,
या फिर  रेलवे के अपने बंगलें के बागीचे के पेड़ों पर कच्चे हरे सजीले दिखते।

उम्र हो गई, फिर भी जो देखें फुटपाथों पर ठेले पर सजे हुए इनको हरे हरे और ताजे,
मुंह में पानी आ जाता, खुद को रोक न पाते, दो-चार छांटते खरीदते खाते,
इनको फांकों में काट, लगाकर नमक मशाले, जो इनको खाते
लाजबाब यह लगते, इनके स्वाद की तुलना क्या है कोई और कर पाते?

कच्चे यह अमरूद होते हैं बड़े कसैले, जो दांतों से काटें खायें,
मगर चबाते बड़े रसीले लगते हैं जितने खट्टे उतने ही हैं मीठे होयें,
मानो वह खुद के अंदर जीवन का दर्शन सारा हो लिये समेटे
कि जीवनपथ पर ऊंचनीच के अनुभव, होते हैं प्रथम बहुत कड़वे और कसैले,
मगर वही अनुभव कल बनते, आगे चलकर  अपने सच्चे साथी, मीठे फल देने वाले,
सही सबक हैं देते , विश्वास, आत्मबल, और जीवन में मनोबल बढ़ाने वाले।

-देवेंद्र दत्त मिश्र
फोटोग्राफ श्री दिनेश कुमार सिंह द्वारा

Thursday, September 10, 2015

परमवीर अब्दुल हमीद के शहीद दिवस पर उन्हें हार्दिक नमन....

सननन गोली चले चले बम गनवा हो
सुनि के करेजा धड़के ला परनवा हो

पाक नाहीं पाकी कइलस
देश साथ घात कइलस
चोरी चोरी बॉडर लंघलस
घुसपैठी हमला कइलस
डोंगराई क्षेत्र रहल बारिश क महीनवा हो
सनसन...

अब्दुल हमीद जइसन देश क पहरेदार रहलन
तन मन दिल से ऊ त भारतमां क लाल रहलन
छाती में गोली लागत तब्बौ मोर्चा नाहीं छोड़लन
हाथ हथगोला से ही पैटनटैंक उड़ाइ देहलन
देशवा के शान खातिर  देलेन आपन जनवा हो
सननन....

जय हो बहादुर अब्दुल तोहसे देशवा निहाल भइल
तोहरे जनम लेहला से माटी गाजीपुर क तरि गइल
अमर हउअ सबके दिल में बस देहियां शहीद भइल
तोहरे बहादुरी क गाथा, हर भारतीय हरदम गाइल
नाम तोहार रही अमर जब तक रही ई देशवा हो
सननन.. ....

-देवेंद्र दत्त मिश्र