Saturday, October 6, 2012

न वो खुदा हैं,न हम खुदा हैं,खुदा तो ऊपर वाला है-



मेरी पत्नीजी, आशा मिश्रा , अस्वस्थ चल रहीं हैं,विगत जुलाई माह में उनके Spinal Cord में ट्युमर ,जिसे मेडिकल साइंस की भाषा में Intermedular Ependymoma कहते हैं,की सर्जरी हुई।हालाँकि इस ट्युमर की डायग्नोसिस MRI जाँच द्वारा कुछ वर्ष पूर्व ही हो गयी थी किंतु इसकी सर्जरी से जुड़े खतरों की आशंका मन में होने के कारण हमारे लिये सर्जरी का निर्णय लेना कठिन रहा और उसे टालते रहे।

स्पाइनल कॉर्ड की अनाटोमी
(चित्र विकीपीडिया के सौजन्य से)
हमारी स्पाइनल कॉर्ड एक से डेढ़ सेन्टीमीटर व्यास की व 37 से 40 सेन्टीमीटर लम्बाई की  रबर-ट्यूब जैसी होती है , जो हमारे मस्तिष्क के निचले हिस्से से शुरू होती है व  हमारे शरीर के मूलाधार तक रीढ़ की हड्डी के कवच में सुरक्षित लटकी रहती है।यह हमारे मस्तिष्क से निकलने वाली लगभग 1 करोड़ चौंतीस लाख तंतृकाओं ( nerves) से बनी होती है व इस प्रकार हमारे शरीर के अंग-प्रत्यंग का संचालन व नियंत्रण करती है।



चूँकि यह ट्यूमर स्पाइनल कार्ड ट्यूब के अंदर था , जिसके कारण महत्वपूर्ण नर्व्स पर दबाव बनता था और परिणामस्वरूप उन्हें कई वर्षों से लगातार वेदना , विशेषकर गर्दन,कंधे,दोनों हाथ व पैर में असहनीय दर्द, का सामना करना पड़ा है।विगत 19 वर्षों से  मैं उनकी इस पीड़ा का बिना किसी निदान की सहायता कर सकने के, मात्र एक असहाय साक्षी बनकर रह गया हूँ।

विगत जुलाई में तो उनका कष्ट इतना बढ़ गया कि उनको चलने-फिरने की असमर्थता सी होने लगी और डॉक्टरों ने इस ट्यूमर के अविलम्ब सर्जरी की सलाह दी।हालांकि हमारे लिये यह कठिन निर्णय था किंतु सब ईश्वराधीन व डॉक्टरों पर विश्वास करते हुये हमने सर्जरी कराने का फैसला किया।19 जुलाई, जो मेरा जन्मदिन भी था, निमहंस(NIMHANS)बंगलौर में उनकी सर्जरी हुई जो तकरीबन 16 घंटे चली।

यह मेरे, मेरे बच्चों व हमारे सभी शुभेच्छुओं हेतु अति कठिन व धैर्य-परीक्षा का समय था।किंतु मैं समझता हूँ कि हम सबसे ज्यादा धैर्य व अथकप्रयाश तो Nimhans के उन न्यूरोसर्जन्स- डा. नूपूर पृथु व डा. माजिद का था , जिन्होंने इस गहन सर्जरी को सफलतापूर्वक सम्पन्न किया । इन कुशल न्यूरोसर्जन्स के प्रयास व ईश्वर की कृपा से सर्जरी सकुशल हो गयी व ट्यूमर का अधिकांश अंश  निकालने में वे सफल रहे।

सर्जरी के उपरांत एक सप्ताह तक उन्हे असह्य वेदना से गुजरना पडा। स्पाइनल कॉर्ड की सर्जरी के कारण उनकी सेंसरी नर्व्स प्रभावित हो गयीं, जिस कारण दोनों पैरों में सेंसेसन का अभाव हो गया है, एवं उनके चलने-फिरने की फिलहाल असमर्थता हो गयी , जिसमें फीजियोथिरैपी की सहायता से धीरे-धीरे प्रगति हो रही है। निश्चय ही यह आशा के लिये व हमारे लिये बड़ा ही कठिन चुनौती का समय रहा है, किंतु उनका धीरज व वेदना को सहने की अदम्य हिम्मत से हम इस कठिन परिस्थिति का सामना कर सके हैं।

चूँकि ट्युमर कई वर्षों से था, व पिछली MRI रिपोर्ट्स के अनुसार उसके आकार में वृद्दि मामूली थी, अतः डॉकटर ट्युमर के बिनाइन होने के प्रति पूर्ण आश्वस्त थे ।किंतु सर्जरी के उपरांत इसकी विस्तृत बायोप्सी रिपोर्ट के अनुसार ट्यूमर Anaplastic Ependymoma Grade-III है,जो कि मैलिगनैंट श्रेणी में आता है, यह हमारे लिये व डाक्टरों के लिये थोड़ा निराशाजनक समाचार रहा ।

बायोप्सी रिपोर्ट की जानकारी से मुझे उदास व दुःखी देखकर डा. नूपुर पृथु ने मुझसे जो बात कही वह मेरे लिये जीवन की सबसे महत्वपूर्ण बात है । डॉक्टर ने कहा- मिश्राजी! न मैं खुदा हूँ, न वो(बायोप्सी लैब) खुदा हैं, खुदा तो ऊपर वाला है। एक अति कुशल न्युरोसर्जन के मुँह से इतनी बड़ी बात सुनकर मेरी आँखों से मन का दुःख छलकने से न रह सका और उनकी इस सलाह से मेरे मन को अभूतपूर्व शांति व बल मिला।

इस बड़ी व सफल सर्जरी के उपरांत भी,ट्युमर के मैलिग्नैंट होने से थोड़ी अनिश्चिततायें बनी हुई हैं, आशा को पुनः रेडियोथिरेपी व केमोथिरेपी के उपचार से गुजरना है, जो कि अगले सप्ताह से शुरू हो रही है।हालाँकि यह एक चुनौतीपूर्ण उपचार है किंतु जैसा रेडियोथिरैपी के विशेषज्ञ डॉक्टर ने बताया है कि वर्तमान में रेडियोथिरैपी हेतु अति आधुनिक व उच्च तकनीकी मसीनों के उपयोग के कारण इस उपचार से संभावित साइड-इफेक्ट लगभग नगण्य है ।

हालाँकि मन में थोड़ी चिंता अवश्य है, किंतु हमें उस ऊपर वाले , उस खुदा की परमशक्ति पर, जैसा की डॉक्टर पृथु का कथन था, पूर्ण विश्वास है। मुझे विश्वास है कि वह मेरी, मेरे बच्चों, व हमारे सभी शुभचिंतकों की आशा के उपचार के सफल होने व शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना अवश्य सुनेगा ।

मैं अपने सभी मित्रों व पाठकों से भी अनुरोध करता हूँ कि वे आशा के सफल उपचार व उनके शीघ्र स्वस्थ होने हेतु परम पिता परमेश्वर से प्रार्थना करें। 

आस-पास है खुदा ।

14 comments:

  1. Wishing her a fast recovery.

    ReplyDelete
  2. JIJU LORD KRISHNA JALD HI DIDI KO THIK KAR DEGA..MUJHE US PAR PURA VISHWAS HAI...

    ReplyDelete
  3. ईश्वर सहायक हों ..... शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संगीता जी

      Delete
  4. ओह, दुखद पर साहसिक कदम, ईश्वर जल्द स्वास्थ्य लाभ दें।
    इसी तरह के दर्द से मेरे एक मित्र की पत्नी जुझ रही है और भेलोर से लौट कर होमियोपैथ का ईलाज करा रही है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरुण जी, आपका हार्दिक आभार।

      Delete
  5. भाभीजी पूर्ण स्वस्थ हो जायेंगी, ईश्वर पर पूरा भरोसा है हम सबको।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद प्रवीण जी,आपका सदा सहयोग व हमारे लिये आपकी शुभकामना हमारे लिये बहुत मायने रखती है।

      Delete
  6. दुर्गम काज जगत के जेते,सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते

    कल्याण के साक्षात स्वरुप श्री हनुमान जी से प्रार्थना करता हूँ
    कि वह हमें

    बल बुधि विद्या देहु,मोहिं हरहूँ क्लेश बिकार

    आईये आप और हम नित्य हनुमान चालीसा का पाठ करें.
    वे पवन पुत्र हमारे दिल की पुकार अवश्य सुनेंगें.

    भाभी जी के शीघ्रातिशीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए जगदीश्वर
    परमाधार से हार्दिक प्रार्थना करता हूँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अवश्य राकेश जी। आभार

      Delete
  7. शिवमेवम कुशलम जगत.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राहुल जी।

      Delete