Monday, October 3, 2011

-गृहिणी गृह उच्यते



मेरी एक सहपाठी मित्र, जो इलाहाबाद विश्वविद्यालय में मेरे साथ पढ़ती थीं, कुछ दिन पूर्व ही मेरे सोसलनेटवर्क ग्रुप पर जुड़ीं। लगभग 27 वर्षों के अंतराल के बाद उनसे दुबारा सम्पर्क होना बड़ी सुखद व सुंदर अनुभूति है। वे जितनी सुंदर उतनी ही होनहार छात्र थीं, वैसे मेरा स्वयं का अनुभव रहा है कि लड़कियाँ प्राय: पढ़ने में होनहार व लगनशील होती हैं जिसपर कोई भी पिता गर्व अनुभव करना चाहेगा।

पढ़ाई पूरी कर व अपने विवाह के पश्चात वे गृहिणी की भूमिका भी उतनी ही तन्मयता व लगन से निभाने लगीं, और कोई नौकरी करने, अपना निजी प्रोफेशनल कैरियर बनाने के बजाय घर का विशेष खयाल रखने ,बच्चों की शिक्षा-दीक्षा में सहयोग करने व उनके साथ गुणात्मक समय बिताने को प्राथमिकता दीं।पतिदेव एक सफल डॉक्टर हैं, उनके दो बेटे हैं,जो अपने माँ-पिता की ही तरह पढ़ाई में काफी होनहार है,एक मेडिकल कॉलेज का छात्र है और दूसरा भी कॉलेज ज्वाइन करने की तैयारी में है।

हमारी बातचीत के सिलसिले में मेरे यह कहने पर कि उन्होने परिवार,अपने पति,और बच्चों की सफलता के लिये कितना त्याग किया है,तो उन्होने अपने सौम्य स्वभाव के मुताबिक बड़ी मुलायमियत से मुझे टोंकते कहा कि यह उनका त्याग नहीं बल्कि इसमें उनकी आत्मिक संतुष्टि है।वैसे तो उनके सौम्य व सुंदर व्यक्तित्व व व्यवहार का मैं अपने कॉलेज के दिनों से ही कायल था, यह अलग बात है कि उन दिनों उनसे कभी इसका इजहार न कर सका, किंतु उनके इस गरिमामय विचार को जान उनकी शख्सियत मेरे मन में अति विशेष हो गयी।तब मुझे यह अनुभूति हुई कि इतना गरिमामय विचार एक माँ या पत्नी ही दे सकती है।

हमारे हर परिवार की गृहिणी एक माँ की भूमिका में, एक पत्नी की भूमिका में,पूर्ण आत्मिक संतुष्टि से हमारे अस्तित्व , हमारे निर्माण, हमारी उन्नति व प्रगति की आधारशिला बन सम्बल प्रदान करने के साथ-साथ स्थायित्व भी प्रदान करती हैं।वे हमारी खुशियाँ,हमारे सपने,हमारी सफलताओं को स्वयं में आत्मसात कर इन्हें ही अपनी खुशियाँ,सपने व स्वयं की सफलता मान लेती हैं, इसी में वह अपनी आत्मिक संतुष्टि अनुभव करती हैं,भला इससे बड़ा व अद्भुत दिव्यकवच हमारे जीवन का क्या हो सकता है ।

ये गृहिणियाँ,जो कभी स्वयं होनहार व प्रतिभाशील छात्र थीं,यदि चाहतीं व ऐसा निर्णय लेतीं तो स्वयं का एक सफल प्रोफेसनल कैरियर बना सकती थीं, और अपनी स्वयं की सफलता में आत्म-मुग्ध हो सकती थी। किन्तु यह गरिमा व महानता एक नारी ही निर्वाह कर सकती है कि स्वयं एक भव्य-अट्टालिका के शिखर पर स्वर्ण-कलश की शोभा बनने की चाहत रखने के विपरीत उसकी नींव की मजबूत आधारशिला बन अपने को किसी प्रसिद्धि या कार्यप्रदर्शन से परे व आवरण मे रखते हुये, इस अट्टालिका के स्थाई सम्बल व सम्पूर्ण अस्तित्व का कारण बनना अपने पूर्ण आत्म- संतुष्टि भाव के साथ  सहज स्वीकार कर लेती हैं।

हमें यह निरंतर स्मरण रहना चाहिये कि स्त्री की इसी गरिमा से हम सभी अपने जीवन में निरंतर पोषित व संरक्षित रहे हैः- जो बचपन में माँ के रूप में व बड़े होने पर पत्नी के रूप में हमें धन्य-लाभ करती है।

मैं नारी के गृहिणी स्वरूप को नमन करता हूँ, उनके प्रति जयशंकर प्रसाद की निम्न पंक्तियों के साथ श्रद्दा अर्पण करता हूँ-

नारी तुम केवल श्रद्धा हो,विश्वास रजत नभ तल में।
पियूष श्रोत सी बहा करो, जीवन के अंतस्तल में।।

25 comments:

  1. मैं नारी के गृहिणी स्वरूप को नमन करता हूँ, उनके प्रति जयशंकर प्रसाद की निम्न पंक्तियों के साथ श्रद्दा अर्पण करता हूँ-

    नारी तुम केवल श्रद्धा हो,विश्वास रजत नभ तल में।
    पियूष श्रोत सी बहा करो, जीवन के अंतस्तल में।।

    देवेन्द्र भाई,आपकी सुन्दर भावनाओं को सादर नमन.

    सुन्दर,सार्थक प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. कितने दिनों से इस पोस्ट की प्रतीक्षा कर रहा था। अभी अपनी मैडम को पढ़ाता हूँ।

    ReplyDelete
  3. राकेश जी व प्रवीण जी आपका हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  4. आपने तो अपनी बात कह दी, आपकी सहपाठी की अपनी अभिरूचि थी और उस अनुसार उन्हें जीवन साथी मिल गया और सब कुछ सुंदर है. और मेरी निजी राय में यही होना चाहिये.

    लेकिन आजकल के युवा DINK वाले फ़ार्मुले पर चल रहे हैं, अधिकतर लडकों को कमाऊ बीबी चाहिये, अगर लडकी चाहे भी कि वो सिर्फ़ घर संभाले तो आजकल लडका तैयार नही होगा.

    अन्यथा ना ले, यह आजकल अडोस पडोस का मेरा अपना सिर्फ़ अनुभव है (सोच नही) जिसे मैने यहां प्रासंगिक जानकर लिख दिया है.:)

    रामराम.€

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सार्थक और सुन्दर पोस्ट है...हार्दिक धन्यवाद...

    ReplyDelete
  6. सर आपकी सहपाठी ने बिलकुल सही कहा की ये त्याग नहीं है, आत्मा संतुष्टि है और शायद इसीलिए वो अपना १००% दे पायी . मेरा मानना है की अगर आप एक गृहणी के रूप में अपने आप को ज्यादा खुश पाते है तो वो रोल अपनाएं और अगर काररीएर में आगे बढ़ना चाहते है तो घर के साथ उसमे भी चुन सकते हैं, पर हर हाल में जो भी राह चुने उसमे खुश रहे, अगर आपने काररीएर छोड़ के गृहणी बन जाते पर खुश नहीं रहते तो आप इस गृहणी का रोल को भी अच्छे से नहीं निभा पाएंगे. तो आप जो भी रास्ता चुने उसमे खुश रहे तभी आपके आस पास के लोग भी खुश रहेंगे और आपका परिवार भी

    ReplyDelete
  7. सर आपकी सहपाठी ने बिलकुल सही कहा की ये त्याग नहीं है, आत्मा संतुष्टि है और शायद इसीलिए वो अपना १००% दे पायी . मेरा मानना है की अगर आप एक गृहणी के रूप में अपने आप को ज्यादा खुश पाते है तो वो रोल अपनाएं और अगर काररीएर में आगे बढ़ना चाहते है तो घर के साथ उसमे भी चुन सकते हैं, पर हर हाल में जो भी राह चुने उसमे खुश रहे, अगर आपने काररीएर छोड़ के गृहणी बन जाते पर खुश नहीं रहते तो आप इस गृहणी का रोल को भी अच्छे से नहीं निभा पाएंगे. तो आप जो भी रास्ता चुने उसमे खुश रहे तभी आपके आस पास के लोग भी खुश रहेंगे और आपका परिवार भी

    ReplyDelete
  8. हमारे हर परिवार की गृहिणी एक माँ की भूमिका में, एक पत्नी की भूमिका में,पूर्ण आत्मिक संतुष्टि से हमारे अस्तित्व , हमारे निर्माण, हमारी उन्नति व प्रगति की आधारशिला बन सम्बल प्रदान करने के साथ-साथ स्थायित्व भी प्रदान करती हैं।वे हमारी खुशियाँ,हमारे सपने,हमारी सफलताओं को स्वयं में आत्मसात कर इन्हें ही अपनी खुशियाँ,सपने व स्वयं की सफलता मान लेती हैं, इसी में वह अपनी आत्मिक संतुष्टि अनुभव करती हैं,भला इससे बड़ा व अद्भुत दिव्यकवच हमारे जीवन का क्या हो सकता है ।

    महिलाएं हों या पुरुष आपके ये विचार सबके ह्रदय में उतरने वाले हैं..... आभार इन सार्थक विचारों को साझा करने का.....

    ReplyDelete
  9. कुंठित होकर सिर्फ गृहिणी या कामकाजी बनने से बेहतर है, वह किया जाए जो आत्मसंतुष्टि दे !

    ReplyDelete
  10. महिलाओं के कई गुणों की बराबरी पुरुषों के लिए संभव ही नहीं|

    ReplyDelete
  11. आत्मसंतुष्टि की बेहद संतुलित परिभाषा मिली।

    ReplyDelete
  12. नारी शक्ति कलयुगे!:)

    ReplyDelete
  13. अच्छी पोस्ट छूट रही थी। प्रवीण जी के ब्लॉग से यहां आ गया। अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  14. ऐसी महिलाओ की कमी नहीं है जो शिक्षा बस ज्ञान प्राप्ति के लिए करती है जीवन को और अच्छा बनाने के लिए करती है जरुरी नहीं है की हर व्यक्ति नौकरी करने के लिए ही शिक्षा लेता है ऐसे मामलों में यदि महिलाए सिर्फ गृहणी है तो निश्चित रूप से वो अपनी इच्छा का काम कर रही है और वो संतुष्ट होंगी | किन्तु जो महिलाए शिक्षा ये सोच कर प्राप्त करती है की वो जीवन में और कुछ भी करेंगी यदि उन्हें सिर्फ गृहणी बन कर रहने के लिए मजबूर किया जाये तो वो कुंठित होंगी और संभव है की घर भी ठीक से ना संभाल सके जिसके लिए उन्हें काम नहीं करने दिया जाता है जबकि ये संभव है की वो अपने मन का काम करने के बाद इतनी संतुष्ट और खुश रहे ही घर पहले से बेहतर तरीके से संभाल सके |

    ReplyDelete
  15. प्रवीण जी की पोस्‍ट से प्रेरित होकर इस पोस्‍ट पर आयी हूँ, बहुत ही सरस और उपयोगी पोस्‍ट है। बधाई।

    ReplyDelete
  16. आकर्षक लेख है. मेरे विचार से यह एक समर्पण की भावना है. जिसमें एक अलौकिक प्रेम समाहित होता है.

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. paraveen ji ki post se yaha aana hua aur jaha tak yaad hai shayad pahli ya dusri baar hi aana hua.aapko padhkar accha laga...bahut accha

    ReplyDelete
  19. वे हमारी खुशियाँ,हमारे सपने,हमारी सफलताओं को स्वयं में आत्मसात कर इन्हें ही अपनी खुशियाँ,सपने व स्वयं की सफलता मान लेती हैं..

    वाकई, अगर पुरुष को यह सब करना पड़े तो?

    ReplyDelete
  20. कई ऐसी महिलाएँ भी हैं...जिन्होंने कैरियर भी बनाया..पर जब बच्चों को उनकी जरूरत हुई...तो कैरियर को अलविदा कह दिया.
    हर हाल में निर्णय खुद महिला का होना चाहिए कि वो कैरियर अपनाना चाहती है. या सिर्फ गृहकार्य .

    ReplyDelete
  21. टिप्पड़ी हेतु आप सबका हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  22. Usko nahi dekha hamne kabhi, to uski jaroorat kya hogi ee Maa teri soorat se alag bhagwan ki soorat kya hogi

    ReplyDelete
  23. संस्कारपूर्ण मन की मनोरम अभिव्यक्ति प्रमुदित कर गई !
    प्रवीण जी को धन्यवाद कि उनके सोंधे छौंक वाला लेखन पढ़ने को प्रेरित कर गया .

    ReplyDelete
  24. प्रवीण जी, धन्यवाद कि आपके सोंधे छौंक वाला लेखन वह मनोरम अभिव्यक्ति पढ़ने को प्रेरित कर गया .

    ReplyDelete
  25. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete